कैकेयी कोपभवन में - अयोध्याकाण्ड (3)

>> Friday, October 23, 2009

राम के राजतिलक का शुभ समाचार अयोध्या के घर-घर में पहुँच गया। पूरी नगरी में प्रसन्नता की लहर फैल गई। घर-घर में मंगल मनाया जाने लगा। स्त्रियाँ मधुर स्वर में रातभर मंगलगान करती रहीं। सूर्योदय होने पर नगरवासी अपने-अपने घरों को ध्वाजा-पताका, वन्दनवार आदि से सजाने लगे। हाट बाजारों को भाँति भाँति के सुगन्धित एवं रंग-बिरंगे पुष्पों से सजाया गया। गवैये, नट, नर्तक आदि अपने आश्‍चर्यजनक करतब दिखाकर नगरवासियों का मनोरंजन करने लगे। स्थान स्थान में कदली-स्तम्भों के द्वार बनाये गए। ऐसा प्रतीत होने लगा कि अयोध्या नगरी नववधू के समान ऋंगार कर राम के रूप में वर के आगमन की प्रतीक्षा कर रही है।

किन्तु राम के राजतिलक का समाचार सुनकर एवं नगर की इस अद्भुत् श्रृंगार को देखकर रानी कैकेयी कि प्रिय दासी मंथरा के हृदय को असहनीय आघात लगा। वह सोचने लगी कि यदि कौशल्या का पुत्र राजा बन जायेगा तो कौशल्या को राजमाता का पद प्राप्त हो जायेगा और कौशल्या की स्थिति अन्य रानियों की स्थिति से श्रेष्ठ हो जायेगी। ऐसी स्थिति में उसकी दासियाँ भी स्वयं को मुझसे श्रेष्ठ समझने लगेंगीं। वर्तमान में कैकेयी राजा की सर्वाधिक प्रिय रानी है और इसी कारण से महारानी कैकेयी का ही राजमहल पर शासन चलता है। कैकेयी की दासी होने का श्रेय प्राप्त होने के कारण राजप्रासाद की अन्य दासियाँ मेरा सम्मान करती हैं। यदि कौशल्या राजमाता बन जायेगी तो मेरा यह स्थान मुझसे छिन जायेगा। मैं यह सब कुछ सहन नहीं कर सकती। अतः इस विषय में अवश्य ही मुझे कुछ करना चाहिये।

ऐसा विचार करके मंथरा ने अपने प्रासाद में लेटी हुई कैकेयी के पास जाकर कहा, "महारानी! आप सो रही हैं? यह समय क्या सोने का है? क्या आपको पता है कि कल राम का युवराज के रूप में अभिषेक होने वाला है?"

मंथरा के मुख से राम के राजतिलक का समाचार सुनकर कैकेयी को अत्यंत प्रसन्नता हुई। समाचार सुनाने की खुशी में कैकेयी ने मंथरा को पुरस्कारस्वरूप एक बहुमूल्य आभूषण दिया और कहा, "मंथरे! तू अत्यन्त प्रिय समाचार ले कर आई है। तू तो जानती ही है कि राम मुझे बहुत प्रिय है। इस समाचार को सुनाने के लिये तू यदि और भी जो कुछ माँगेगी तो मैं वह भी तुझे दूँगी।"

कैकेयी के वचनों को सुन कर मंथरा अत्यन्त क्रोधित हो गई। उसकाका तन-बदन जल-भुन गया। पुरस्कार में दिये गये आभूषण को फेंकते हुये वो बोली, "महारानी आप बहुत नासमझ हैं। स्मरण रखिये कि सौत का बेटा शत्रु के जैसा होता है। राम का अभिषेक होने पर कौशल्या को राजमाता का पद मिल जायेगा और आपकी पदवी उसकी दासी के जैसी हो जायेगी। आपका पुत्र भरत भी राम का दास हो जायेगा। भरत के दास हो जाने पर पर आपकी बहू को भी एक दासी की ही पदवी मिलेगी।"

यह सुनकर कैकेयी ने कहा, "मंथरा राम महाराज के ज्येष्ठ पुत्र हैं और प्रजा में अत्यन्त लोकप्रिय हैं। अपने सद्‍गुणों के कारण वे सभी भाइयों से श्रेष्ठ भी हैं। राम और भरत भी एक दूसरे को भिन्न नहीं मानते क्योंकि उनके बीच अत्यधिक प्रेम है। राम अपने सभी भाइयों को अपने ही समान समझते हैं इसलिये राम को राज्य मिलना भरत को राज्य मिलने के जैसा ही है।"

यह सब सुनकर मंथरा और भी दुःखी हो गई। वह बोली, "किन्तु महारानी! आप यह नहीं समझ रही हैं कि राम के बाद राम के पुत्र को ही अयोध्या का राजसिंहासन प्राप्त होगा तथा भरत को राज परम्परा से अलग होना पड़ जायेगा। यह भी हो सकता है कि राज्य मिल जाने पर राम भरत को राज्य से निर्वासित कर दें या यमलोक ही भेज दें।"

अपने पुत्र के अनिष्ट की आशंका की बात सुनकर कैकेयी का हृदय विचलित हो उठा। उसने मंथरा से पूछा, "ऐसी स्थिति में मुझे क्या करना चाहिये?"

मंथरा ने उत्तर दिया, "आपको स्मरण होगा कि एक बार देवासुर संग्राम के समय महाराज दशरथ आपको साथ लेकर युद्ध में इन्द्र की सहायता करने के लिये गये थे। उस युद्ध में असुरों के अस्त्र-शस्त्रों से महाराज दशरथ का शरीर जर्जर हो गया था और वे मूर्छित हो गये थे। उस समय सारथी बन कर आपने उनकी रक्षा की थी। आपकी उस सेवा के बदले में उन्होंने आपको दो वरदान दो वरदान प्रदान किया था जिसे कि आपने आज तक नहीं माँगा है। अब आप एक वर से भरत का राज्याभिषेक और दूसरे वर से राम के लिये चौदह वर्ष तक का वनवास माँग कर अपना मनोरथ सिद्‍ध कर लीजिये। शीघ्रातिशीघ्र आप मलिन वस्त्र धारण कर कोपभवन में चले जाइये। महाराज आपको बहुत अधिक चाहते हैं इसलिए वे अवश्य ही आपको मनाने का प्रयत्न करेंगे और आपके द्वारा माँगने पर उन दोनों वरों को देने के लिये तैयार हो जायेंगे। किन्तु स्मरण रखें कि वर माँगने के पूर्व उनसे वचन अवश्य ले लें जिससे कि वे उन वरदानों को देने के लिये बाध्य हो जायें।"

मंथरा के कथन के अनुसार कैकेयी कोपभवन में जाकर लेट गई।

5 टिप्पणियाँ:

Nirmla Kapila October 23, 2009 at 11:33 AM  

अच्छी चल रही है रामायण आभार्

ललित शर्मा October 23, 2009 at 2:06 PM  

अवधिया जी जैसे ही मैने व्लागवाणी खोला, वैसे ही कैकयी के कोप भवन वाली पोस्ट सामने थी, मैने टिप्पणी करने के लिए क्लिक किया तो ब्लाग खुलने की बजाय एक एरर दिखाने लगा,उसके बाद मैने अन्य ब्लाग खोले उसमे भी वैसे ही हुआ, मै अविनाश जी के पास गया (आपका नम्बर नही है मेरे पास)पुछने क्या समस्या है तो वे पहले ही बोर्ड लगा कर बैठे थे "ब्लाग पर धब्बा"
मे्री समझ मे नही आया, तो उनसे पुछा तो पता चला ब्लागस्पाट वाले डोमेन नेम नही खुल रहे हैं ब्लागर की ओर से कोई परेशानी है। कुछ देर बाद ये खुल गया, फ़िर टिप्पणी करने आय तो बिजली चली गई,फ़िर कम्प्युटर चालु किया और सारी व्यथा आप तक पहुचा रहा हुं, "आज कैकयी माता बने पेरीस, जब राजा दशरथ अऊ अजो्ध्या ला पेर सकथे त हमन कऊन खेत के......" बोलो राजा रामचन्द्र की जय, आभार

'अदा' October 23, 2009 at 9:33 PM  

इस मंथरा का तो कभी भी भला न हो....
जहाँ भी हो वो...
सब कुछ अद्भुत है....

महेन्द्र मिश्र October 23, 2009 at 9:47 PM  

बहुत सुन्दर . बहुत सुन्दर वृतांत . पढ़ता हूँ लगता है की जैसे टी.वी. का लाइव कास्ट चल रहा हो ...आभार

Rakesh Singh - राकेश सिंह October 30, 2009 at 12:17 AM  

मनुष्य के मस्तिष्क मैं गलत भावनाएं बहुत जल्द पैठ बना लेती है ....

  © Blogger templates Inspiration by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP